धरती का ध्येय जुड़ाव है और फांक होना प्रकृति।

मैंने अपनी किताब में भी लिखा है कि आईसलैंड में धरती बीचों-बीच दो फांक होती रहती है। जिसकी आभासी तुलना मैंने सीता के जन्म और समाधि से की है। यह दरअसल दो टेक्टॉनिक प्लेट का जुड़ना, अलग होना भी है। मैं जब प्रेत की बात करता हूँ, तो कहता हूँ कि वहाँ लोगों ने उन इलाकों में सड़क और मकान नहीं बनाए, जहाँ प्रेत हैं। प्रकृति बची रही।

समस्या तब आती है, जब विज्ञान और तर्क विश्वास की धज्जियाँ उड़ाते हैं। और तब भी जब विश्वास बलवान होकर विज्ञान और तर्क को धत्ता बताता है।

मंदिर, मस्जिद, गिरजाघर में बलात्कार पर ईश्वर क्यों चुप हैं? आप कहते हैं, वो हैं ही नहीं? अरे अंधों! वो उस घर में उन्हें दिखे नहीं, तभी तो यह कुकर्म किया। न अंदर बैठों को दिखते हैं, न बाहर बैठों को। तो कहाँ होंगे ईश्वर? पेड़ पर पेड़ काटे जा रहे हो, और कहते हो कि पेड़ पर प्रेत बैठने वाली बात झूठी है? ईश्वर को देखा नहीं, तो प्रेत की चीत्कार भी नहीं सुनी होगी।

गांधी अपने प्रारंभिक लेख ‘फ़ेस्टिवल्स ऑफ़ इंडिया’ में, सावरकर अपने प्रसिद्ध लेख ‘क्ष-किरण’ में, आईंस्टाईन अपने ‘रिलीज़न ऐन्ड साईन्स’ में यह बातें समझा चुके हैं। पर आपके लिए तो गांधी, सावरकर और आईन्सटाईन ही तीन गैंग के हैं, तो क्या कहूँ?

मिथिला की सीता जमीन से निकली बेटी ही थी। कहाँ से? जमीन से? उनके हाथ में किसी जाति या धर्म का झंडा नहीं था। मिथिला का ‘आधा गांव’ आज भी मर्सिया गाता-खेलता है। मिथिला में जात-पात की भिन्नता भी है, और एकता भी।

लिख ‘मिथिला’ रहा हूँ, पर इसे धरती ही समझिए। आईसलैंड भी मिथिला ही है। धरती वहाँ भी फटती है। धरती का ध्येय जुड़ाव है और फांक होना प्रकृति।

मल्लिकार्जुन मंसूर

संगीत में गरीब-फकीरों के लिए जगह नहीं। एक वाद-विवाद में यह बात चल पड़ी। मुद्दा शास्त्रीय संगीत का था जो राज घरानों में ही पला-बढ़ा। राज घराने खत्म हुए, संगीत भी खत्म होने लगा। असगरी बाई भी टीकमगढ़ की शानो-शौकत याद कर भावुक हो उठती हैं। पर मुझे लगता है कि फकीरों की आवाज ही अलग है। और घरानों से जुदा भी कुछ लोग तो जरूर हुए।

कुमार गंधर्व की चर्चा मैं करता रहा हूँ, हालांकि फकीरी उनके पुत्र मुकुल जी ने निभाई और रसातल में चले गए। पर एक फकीर हैं, जो पैदाईशी गरीब-फकीर ही रहे, और वो उनकी गायन शैली में भी नजर आता है।

गर गाते समय चेहरे की भंगिमा, गले का थरथराना, होठों का तेज गति से कंपन देखना हो तो, या तो भीमसेन जोशी जी को देखिए, या देखिए मल्लिकार्जुन मंसूर को। कठिन और लीक से हटकर रागों को गाने की कुव्वत उनमें है। राग विभास हो, गौड़ मल्हार हो, असावरी हो। आज झिंझोटी सुन रहा हूँ।

तकनीकी बात करता हूँ। रागों में अलाप पहले आता है, बंदिश बाद में। पर मंसूर जब गाते हैं, बंदिश के बीच में वापस अलाप में भी आ जाते हैं, और गले को कंपन देकर गमक भी उसी वक्त। यह रीति के विपरीत है। यह कुमार गंधर्व, मंसूर या जयपुर घराने वाले कुछ लोग ही करते हैं।

इतना ही नहीं, नाक से गाना, तालु से गाना। ये नहीं कि बस गले से गा दिया। यह सब अलग-अलग स्केल लाता है, पर यह सब नहीं करते। यह रागों की परंपरा को तोड़ना है, पर मंसूर का स्टाइल है। वो बंधे नहीं, और इसलिए जब भी कभी स्वच्छंद सुर सुनने की इच्छा होती है, मल्लिकार्जुन मंसूर जी को सुन लेता हूँ।

आप अगर संगीत के विद्यार्थी नहीं, मेरी तरह बस श्रोता हैं तो मंसूर जी को गाहे-बगाहे सुनते रहें। विद्यार्थियों के लिए परंपरा तोड़ने से पहले निभाना मेरे ख्याल से जरूरी है।

#ragajourney

किराना कहिये या कैराना

पंडित भीमसेन जोशी किराना घराना से थे। किराना कहिये या कैराना। वही कैराना जो समाचारों में हाल में बदनाम रहा, कभी संगीत का गढ़ था।

एक कहानी कल ही पढ़ी। गायकवाड़ महाराज के पास नामी अालिया बख्श और फतेह अली (आलिया-फत्तू) की जोड़ी थी। वो गाते तो उनके बाद किसी के गाने की हिम्मत नहीं होती। यह तौहीन कैराना के अब्दुल करीम खान साहब ने की बीस बरख में। वो गाया कि हिंदुस्तान हिल गया। और तो और, गायकवाड़ राजकुमारी ताराबाई रातों-रात उनके साथ भाग गई। राजकुमारी तो छोड़िए प्रेम में, पर ११ बरख के पंडित जोशी उन्हें सुनकर घर से भाग गए कि गायक बनना है। यह कहकर कि करीम साहब जैसा गाना है। भला ऐसा क्या गाते होंगें कि सब उनके साथ भाग पड़ते?

कोई कहता है पं. भीमसेन जोशी जैसा मारू बिहाग कोई नहीं गा सकता। हम जैसे अनाड़ी कहते हैं, पंडितजी जैसा ही कोई नहीं गा सकता। और पंडित जी कहते कि करीम साहब जैसा कोई नहीं गा सकता।

ऐसा नहीं है कि करीम साहब पर उँगलियाँ नहीं उठीं। उन्हें पुणे के कट्टर हिंदू और मुस्लिम दोनों प्रश्न करते। वह रोज गायत्री मंत्र का जाप करते, और उनके अधिकतर शिष्य हिंदू थे। खासकर रामभाऊ कुंडगोलकर जो बाद में ‘सवाई गंधर्व’ नाम से मशहूर हुए। करीम खान साहब ने बाल गंगाधर तिलक के सामने ‘हरि ओम तत्सत्’ भजन सुनाया था, और तिलक मंत्रमुग्ध हो गए थे। गायकी-मौशिकी में यह आम था। अलाउद्दीन खान साहब मैहर देवी की पूजा करते थे। ये कैराना-फैराना तो तब की देन है, जब संगीत उड़ गया और गर्द रह गया। हम रह गए, आप रह गए।

मारू बिहाग पर चर्चा कभी बाद में। फिल्मी तर्ज दे देता हूँ आइडिया लगाने के लिए। “दिल चीज क्या है आप मेरी जान लीजिए….” मारू बिहाग की छवि है। या लता जी का “तुम तो..प्यार हो…सजना..तुम तो…”

गिरिजा देवी की चर्चा हुई। उन्हें ही सुन रहा था, और करीम खान साहब को पढ़ रहा था।

#ragajourney

What exactly is ‘connecting’ all the MRIs?: Decoding the Rahul Gandhi conundrum

fullsizeoutput_34e0
Recently, Rahul Gandhi’s statement in Singapore about ‘connecting’ the MRI machines of world had been circulated as a joke and brought a great guffaw from many. He even went beyond saying that it would transform the healthcare in entire world (not just India!). Whether Congress president has thought about it on dais or it was infused by a scientific advisor, that’s a mystery. But, here I would like to unfold this riddle about ‘connecting’ the MRIs.

To begin with, I might surprise some people by saying what he has said and being laughed upon, is partially a feasible and already existent entity.

Right in the silicon valley of India – Bangalore, in a multi-storeyed building, one would find many radiologist doctors sitting in cubicles, and reading images from almost all over the world. From hospitals and private clinics in USA, to the ones from Sub-Saharan Africa! MRI images are being transmitted round-the-clock and being read by doctors in India. Tele-radiology Solutions is one of the largest tele-radiology companies in entire world, which literally ‘connects’ the MRI images and revolutionising the healthcare. And this is a decade old story now.

In another scenario, a serious emergency patient gets his MRI done in a small city, somewhere up in North Bengal. They have the machines and technicians but they don’t have a specialist to read them. Yet, the patient gets the report within an hour and got treated without being shifted all the way to Calcutta, just to fetch a diagnosis. Specialist sitting in Chennai has already read his images, and sent the report taking a break from his favourite football game. All a radiologist needs is a web-based software in his laptop and read images from the world. Tele-radiology Solutions have even revolutionised it by introducing such services on iPad and mobile.

In Europe, all the hospitals and poly-clinics are connected by a health link software, with facility to transmit images, prescriptions, and patient history. Man doesn’t need to carry a ‘jhola’ with X-Ray films or MRI films from hospital to hospital, and being sent back to bring one. Its completely film-less system, where the images are accessible from the server. All one need is the unique identity number (equivalent to ‘Aadhaar’), and get entire patient history and the images from a combination of systems called PACS (Picture archiving and communication system) and HMS (Hospital management system).

This had particularly been a boon in emergency and night-time scenarios. United States doesn’t get help from Indian radiologists because they are cheaper option, but for the dearth of manpower in night-shifts. Indians can read the MRIs in their daytime, which were performed in night time in USA. In a similar way, European MRIs are being read from a similar set-up in Australia. India doesn’t need support from other countries, but it may efficiently use its pool of specialists by connecting the images. Irrespective of where MRI is being done, they would be stored in a single or multiple servers, and fetched by the radiologist pool who would alternate in day and night shift.

This model is efficiently being utilised by a south Indian chain of diagnostic center Vijaya Diagnostic Center, and the BSR diagnostic chain in Madhya Pradesh/Chhattisgarh. They have connected all their diagnostic centres to one server. Hyderabad based centre has a central room, which one would call a ‘space station’, with many radiologists reading images from all over Andhra Pradesh. They simply have ‘connected’ all the MRI images.

But, the idea and its transmission has to happen in a more efficient and collective way. India, being a private healthcare dominant country, it would be difficult to link images from different hospitals. This may be monetised or regulated by government or collectively agreed upon by private partners in benefit of the healthcare. MRI machines or the magnets surely can’t be connected, and if one says so, he/she may become a laughing stock. But, if he means, ‘connecting’ the work-stations or images, that’s a witty, practical and internationally accepted thought. India, in spite of making a breakthrough decade ago in private sector, lags way behind in linking the government healthcare. Healthcare has to be a vital part of ‘Digital India’ with well-planned information network and efficient utility of specialist services.

(Author Dr. Praveen Kumar Jha is a Norway based radiologist doctor, a columnist and an author)

Hindi translation by Mr. Devendra Sharma-

हाल ही में राहुल गाँधी ने सिंगापुर में पूरे विश्व की MRI मशीनों को जोड़ने की बात कही जिसे बहुत से लोगों ने महज हास्य विनोद का विषय माना। उन्होंने ये भी कहा कि इस कदम से ना सिर्फ भारत में बल्कि समूचे विश्व की स्वास्थ्य सेवाओं में क्रन्तिकारी परिवर्तन लाया जा सकता है। अब कांग्रेस अध्यक्ष ने यह बात खुद सोची या उन्हें किसी वैज्ञानिक सलाहकार ने सुझाई, ये अपने आप में एक रहस्य ही है लेकिन सभी MRI मशीनों को जोड़ने की इस पहेली को मैं ज़रूर सुलझाना चाहूँगा।
सबसे पहले तो आप में से कुछ लोगों को यह जानकर आश्चर्य होगा कि उन्होंने जो कहा, और जिस बात का मजाक उड़ाया गया, वो कुछ हद तक व्यावहारिक है और मूर्त रूप ले भी चुकी है।
भारत की सिलिकान वैली बंगलौर की किसी बहुमंजिला इमारत में आप बहुत से डॉक्टर्स को अपने क्यूबिकल्स में बैठ लगभग सारी दुनिया से आई इमेजेज पढ़ते देख सकते हैं। अमेरिकी अस्पतालों और प्राइवेट क्लीनिक से लेकर अफ्रीका के उप-सहारा के क्षेत्रों तक की इमेजेज चौबीसों घंटे भारतीय डॉक्टर्स तक पहुँचती हैं और वो पढ़ते हैं। ‘टेली-रेडिओलाजी सोल्यूशंस’ दुनिया की सबसे बड़ी टेली-रेडिओलाजी कंपनियों में से एक है जो वास्तव में ‘MRI इमेजेज’ को जोड़ती है और स्वास्थ्य क्षेत्र में क्रांति ला रही है। और अब ये एक दशक पुरानी बात हो चुकी है।

एक और मामला देखिये, एक सीरियस मरीज उत्तरी बंगाल के किसी छोटे से शहर से MRI करवाता है। वहां मशीनें हैं, टेकनीशियन है मगर उस रिपोर्ट को पढ़ने वाला कोई एक्सपर्ट नहीं। लेकिन इसके बाद भी मरीज सिर्फ एक डायग्नोसिस के लिए कलकत्ता जाने के बजाय एक घंटे के भीतर अपनी रिपोर्ट पा जाता है और इलाज करवा लेता है। ये संभव होता है क्योंकि चेन्नई में बैठे किसी एक्सपर्ट ने अपने फेवरेट फुटबाल गेम से ब्रेक लेकर उसकी रिपोर्ट पढ़ी और अपने सुझाव भेज दिए। अब स्थिति यह है कि रेडिओलोजिस्ट को सिर्फ अपने लैपटॉप में एक वेब-बेस्ड सॉफ्टवेयर चाहिए और वो सारी दुनिया की इमेजेज पढ़ सकता है। टेली-रेडिओलाजी ने तो ये सुविधाएँ मोबाईल और ipad तक लाकर इसमें क्रांति ला दी है।

यूरोप में, सारे अस्पताल और पाली-क्लीनिक एक हेल्थ-लिंक से सॉफ्टवेयर से जुड़े हैं जिसमें इमेज, मरीज की हिस्ट्री और प्रिस्क्रिपशन ट्रांसमिट करने की सुविधा है। वहां एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल तक झोला भर के xray फिल्म और MRI फिल्म लेकर भटकने की जरूरत नहीं होती। पूरा सिस्टम ‘फिल्म-लेस’ है यानि इमेजेज सर्वर से प्राप्त की जा सकती हैं। वहां सिर्फ एक विशिष्ट पहचान संख्या(आधार सरीखी) दर्ज कर मरीज की सारी केस हिस्ट्री मिल जाती है और दो तंत्रों, PACS(Picture archiving and communication system) और HMS (Hospital management system) के संयोजन से इमेजेज प्राप्त की जा सकती हैं।

इमरजेंसी केसेज और रात के मामलों में ये वरदान की तरह साबित हुआ है। अमेरिका, भारतीय डॉक्टर्स की मदद इसलिए नहीं लेता कि वो एक सस्ते विकल्प हैं बल्कि इसलिए लेता है क्योंकि रात को विशेषज्ञों की उपलब्धता कम होती है। अमेरिका में रात में होने वाले MRI, भारतीय दिन में पढ़ सकते हैं। इसी तरह यूरोप के MRI आस्ट्रेलिया से पढ़े जा सकते हैं। भारत को दूसरे देशों के डॉक्टर्स की ज़रुरत नहीं लेकिन यह सारी इमेजेज को संयोजित कर अपने विशेषज्ञों का पूरा लाभ उठा सकता है। MRI चाहे जहाँ भी हो, इमेज को सिंगल या मल्टिपल सर्वर में भेजा जाये, जिसे दिन और रात की शिफ्ट में काम कर रहे रेडिओलोजिस्ट पा सकें, पढ़ सकें।

दक्षिण भारत में डायग्नोस्टिक सेंटर्स की एक चेन विजया डायग्नोस्टिक सेंटर और मध्य प्रदेश/छत्तीसगढ़ में BSR डायग्नोस्टिक चेन इस मॉडल का कुशलतापूर्वक प्रयोग कर रहे हैं। उन्होंने अपने सारे डायग्नोस्टिक सेंटर्स को एक सर्वर से जोड़ दिया है। हैदराबाद स्थित सेंटर में एक सेंट्रल रूम है, जिसे स्पेस स्टेशन कहा जा सकता है, और बहुत से रेडिओलोजिस्ट पूरे आंध्र प्रदेश से इमेजेज पढ़ते रहते हैं। उन्होंने सारी MRI इमेजेज को संयोजित कर दिया है।

लेकिन इस पूरे विचार और इसके ट्रांसमिशन को कुशलतापूर्वक और सहयोगपूर्ण ढंग से किये जाने की आवश्यकता है। भारत में, जहाँ स्वास्थ्य में प्राइवेट क्षेत्रक का प्रभुत्व है, अलग अलग अस्पतालों की इमेजेज को जोड़ना मुश्किल है। इसके लिए या तो सरकार को आगे आकर इसका वित्तपोषण और विनियमन करना होगा, या फिर स्वास्थ्य क्षेत्र की भलाई के लिए प्राइवेट अस्पतालों को मिलजुलकर आगे बढ़ना होगा। हाँ निश्चित तौर पर MRI मशीनों या मैगनेट को जोड़ना संभव नहीं है और अगर कोई ऐसा कहता है तो वो मजाक का पात्र ही बनेगा। लेकिन अगर उसका मतलब वर्क-स्टेशन या इमेजेज को जोड़ने से है तो यह एक बुद्धिमत्तापूर्ण, व्यवहार्य और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्य विचार है। भारत ने भले ही एक दशक पहले ही प्राइवेट क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रगति की है, लेकिन सरकारी स्वास्थ्य क्षेत्र को जोड़ने में यह काफी पीछे रह गया है। हेल्थकेयर को सुनियोजित इन्फोर्मेशन नेटवर्क और विशेषज्ञों की सेवाओं के कुशलतापूर्ण सुविधाओं के साथ डिजिटल इंडिया का एक महत्त्वपूर्ण भाग होना चाहिए।

E-paper link

भूतों के देश में: आईसलैंड : Bhooton ke desh mein: Iceland (खिलंदर साहित्य)

In the mysterious land of witchcraft and magic, a passage through ghosts and trolls in an unpredictable land – Iceland. Author’s passage through terrains of Iceland and its culture is a thrilling experience told in chaste Hindi. Book is not essentially a ghost story but a journey through this weird land. The land of erupting volcanoes, splitting landscape, constant seismic waves and the earthquakes, snow-storms, and the sheer silence of the barren snow-covered land. A hidden abode of vikings which still speaks the language of vikings, lives on the edges, bathing in the volcanic lakes, and believing in the ghosts. The land where roads just seem to disappear and reappear from nowhere, leaving one virtually nowhere. A journey which takes to the ‘Game of thrones’ turning the traveller into a viking himself.

#bestseller book – http://amzn.to/2D0SLzr

FB Promo

किंडल पर अनूदित किताबें कैसे/क्यों डालें?

अगर आप अनुवादक हैं, या आप अच्छे द्विभाषी/बहुभाषी हैं, तो अनुवाद हिंदी-सेवा और कमाई का एक साधन तो है ही। स्कैंडिनैविया, जर्मनी और चीन में अनुवाद धड़ल्ले होते हैं। किताब आती है, अनुवाद तैयार होता है। यह भी सच है कि कलकत्ता का ‘सीगल’ प्रकाशन विश्व की सबसे बड़ी अनुवाद एजेंसियों में है। पर हिन्दी अनुवाद पीछे ही है। कोई भी व्यक्ति अनुवाद करने के लिए स्वतंत्र हैं, पर प्रकाशन आप तभी कर सकते हैं जब किताब ‘पब्लिक डोमेन’ में हो या कॉपीराइट के मालिक (लेखक/प्रकाशक/दोनों) से करार हो।

पब्लिक डोमेन में क्या है?

१. 1923 ई. से पहले की सभी किताबें, पूरे विश्व की।
२. लेखक की मृत्यु के सत्तर साल बाद की सभी किताबें।
३. लेखक ने अगर कॉपीराइट मुक्त रखा हो, जैसे अनुपम मिश्र जी की किताबें।
४. पब्लिक डोमेन (आर्काईव) में रखी किताबें।

इनमें से किताब उठा कर पढ़ते जाइए, अनुवाद करते जाइए, किंडल पर डालते जाइए। मुफ्त भी डाल सकते हैं, गर सेवा-भाव ही हो, या कुछ कीमत डाल सकते हैं। कॉपीराइट (अनुवाद की) आपकी होगी। गर किसी प्रकाशक को लगे कि यह अनुवाद पेपरबैक में छपनी चाहिए, तो आपसे ले सकते हैं। किसी भी हालत में अनुवादक को प्रकाशक से से कम 2 % रॉयल्टी तो मिलनी ही चाहिए। यह मेरा मानना है। पर किंडल आपको 35 से 70 % रॉयल्टी देता ही है (दाम के हिसाब से)। यह जरूर देख लें कि अनुवाद पहले से किंडल पर तो नहीं?

एक-एक अच्छे अनुवादक लग जाएँ, तो हिंदी किताबें लाख से ऊपर पहुँच जाएगी।

पब्लिक डोमेन में किताबें इस लिंक पर – http://publicdomainreview.org/guide-to-finding-interesting…/

(लेखक को अनुवाद प्रकाशन का कोई अनुभव नहीं। यह बस उपलब्ध ज्ञान से लिखा गया है)