बिहार में गंगा के उत्तर (तिरहुत) से गिरमिटिया क्यों नहीं गए? (Why didn’t people migrate as indentured labourers from Tirahut)

इस प्रश्न में गंगा के उत्तर और तिरहुत को अलग कर देखना आवश्यक है। क्योंकि सारण से तो भारी संख्या में गिरमिटिया गए, जिसका एक कारण मैंने अपनी पुस्तक में लिखा ही है कि सारण ऐसा जिला था जहाँ ‘काला पानी’ की मान्यता नहीं थी।

रही बात तिरहुत की, तो उसमें मुजफ्फरपुर से अंदाजन हज़ार से अधिक (ग्रियर्सन रिपोर्ट), चंपारण से भी अच्छी संख्या में लोग गए। लेकिन दरभंगा-मधुबनी-समस्तीपुर आदि में एक बड़ा गिरमिटिया एजेंट डिपो होते हुए भी कम लोग गए। इसके प्रमुख कारण लिख रहा हूँ-

1. उस वक्त क्षेत्र में तीन रेलवे लाइन और राज, दरभंगा के भवनों पर काम चल रहा था तो रोजगार पर्याप्त थे। पलायन की वजह नहीं थी।

2. एक प्रेम चंद बाबू का एजेंट डिपो था, जहाँ गतिविधि कमजोर थी। इलाके के जमींदार (महाराज) भी नहीं चाहते थे कि लोग बाहर पलायित हों।

3. एक दौलत सिंह नामक एजेंट ने 16 लोग भर्ती किए। बाहर पुलिस के लोगों ने ही अफवाह उड़ा दी कि गिरमिट में उल्टा कर के सर से ‘मिमियाइ का तेल’ निकाल देते हैं। 8 भाग गए। आखिर तक सबके सब भाग गए। यह संभव है कि महाराज के इशारों पर हो रहा हो।

4. स्वामी सत्यदेव ने घूम-घूम कर दरभंगा-मुजफ्फरपुर में गिरमिटिया प्रथा के खिलाफ पर्चे बाँटे।

5. इस इलाके के लोगों की शारीरिक संरचना गिरमिटिया नियमों के अनुसार उपयुक्त न थी। उनके काग़ज में स्पष्ट लिखा था कि चौड़ी गोल छाती हो। तिरहुतिया ब्राह्मण और कायस्थ न हों।

6. एक रिपोर्ट के अनुसार यहाँ के लोग भीरु थे, जबकि शाहाबाद (आरा)-छपरा-सारण के लोग अधिक रिस्क-टेकिंग और हिम्मती थे। जहाज यात्रा का भय तिरहुत में अधिक था, भोजपुर में कम।

हाँ! गया से भारी संख्या में गिरमिटिया जाने का कारण भिन्न था।

(पुस्तक संबंधित एक प्रश्न के उत्तर में)

#CoolieLines #Indentured #Migration #Diaspora #Raj

पुस्तक लिंक – amzn.to/2Ufb8hw

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s